Hindustan Hindi News

[ad_1]

ऐप पर पढ़ें

Shani Uday 2023: शनि उदय 6 मार्च 2023 को 23:36 बजे कुंभ राशि में होगा। ऐसे में शनि के अस्त होने से लोगों को जो परेशानी हो रही थी वो खत्म हो जाएगी। शनि की दो राशियों मकर और कुंभ का स्वामी है। यह राशिचक्र में सबसे धीमी गति से चलने वाला ग्रह है। यह एक राशि में ढाई वर्ष तक रहता है। शनि को दृष्टिकोण, तर्क, अनुशासन, कानून और व्यवस्था, धैर्य, देरी, कड़ी मेहनत, श्रम और दृढ़ संकल्प का प्रतीक माना गया है। जानें शनि उदय से किन राशियों को होगा लाभ-

महाशिवरात्रि पर इन 3 राशियों पर रहेगी भगवान शिव की कृपा, जानें आपको क्या मिलेगा?

मेष राशि- मेष राशि के जातकों के लिए शनि दसवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। और अब यह अपनी ही राशि कुंभ राशि में आय, आर्थिक लाभ और इच्छा के एकादश भाव में अस्त होकर निकल रहा है। ऐसे में मेष राशि के जातकों, कुंभ राशि में शनि उदय के दौरान आपके पेशेवर जीवन में कुछ छिपे हुए शत्रुओं या अनिश्चितताओं के कारण जो समस्याएं आ रही थीं, वे समाप्त हो जाएंगी। मेष राशि के जातकों की आर्थिक स्थिति में भी वृद्धि होगी और उन्हें अपने वित्तीय लाभ, या पदोन्नति और वेतन वृद्धि की प्रतीक्षा में आ रही समस्या का अंत होगा। जो लोग अपने करियर की शुरुआत करना चाहते हैं उन्हें एक अच्छा अवसर मिलेगा। मेष राशि के छात्रों के लिए भी अच्छा समय है जो पेशेवर नौकरी पाने की तैयारी कर रहे हैं।

वृषभ राशि- शनि नवम और दशम भाव का स्वामी है और यह वृषभ राशि के जातकों के लिए एक योग कारक ग्रह है। वृषभ राशि के जातकों, जैसे ही शनि का उदय कुम्भ राशि में होगा, आपका भाग्य फिर से आपका साथ देना शुरू कर देगा, आपके द्वारा सामना की जा रही घरेलू समस्याएं समाप्त हो जाएंगी और आपके पेशेवर जीवन के लिए एक बहुत ही फलदायी अवधि शुरू होगी। यह आपको प्रसिद्धि और स्थिति प्रदान करेगा। व्यापार में उन्नति होगी और इस अवधि में आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी। अगर आप अपने विकास के लिए जगह या कंपनी में कुछ बदलाव की तलाश कर रहे थे तो आप इसके बारे में अभी सोच सकते हैं।

शुक्र का मेष राशि में गोचर: 12 मार्च से मकर समेत इन 3 राशियों के जीवन में होंगे चमत्कारिक बदलाव! आप भी जानें

तुला राशि- तुला राशि के जातकों के लिए शनि एक योगकारक ग्रह है जिसका चतुर्थ और पंचम भाव का स्वामी है। और अब शनि पंचम भाव में अस्त होकर निकल रहा है जो शिक्षा, प्रेम संबंध, संतान का प्रतिनिधित्व करता है। तुला राशि के जातकों के लिए शनि एक योग कारक ग्रह भी है इसलिए कुंभ राशि में शनि का उदय निश्चित रूप से तुला राशि के जातकों के लिए बहुत सारी खुशियां और शुभ परिणाम लेकर आएगा। आप अपने परिवार और बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिता पाएंगे और उनसे खुशी प्राप्त कर पाएंगे। तुला राशि की महिलाएं जो अपने परिवार को बढ़ाने और संतान पैदा करने की इच्छुक हैं लेकिन चिकित्सा कारणों या किसी अन्य समस्या के कारण सक्षम नहीं थीं, अब गर्भधारण की प्रबल संभावनाएं हैं। तुला राशि के जिन छात्रों को पढ़ाई में दिक्कत आ रही थी, उनकी सारी समस्या का समाधान होगा और वे अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे पाएंगे।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।)

 

[ad_2]

Source link

If you like it, share it.
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *